एनकाउंटर स्पेशलिस्ट हैं जौनपुर के नए एसपी अजय साहनी, जानिए इनके बारे में

शासन की ओर से देर रात अचानक किए गए तबादलों की फेहरिस्त में जौनपुर के एसपी राजकरन नैय्यर को एसपी डीजीपी मुख्यालय लखनऊ तबादला कर दिया गया। राजकरन नैय्यर ने निजी वजहों से फील्ड पोस्टिंग से हटाने का अनुरोध किया था उनकी जगह मेरठ के एसपी अजय साहनी को जौनपुर का नया पुलिस कप्तान बनाया गया है। जौनपुर के नये एसपी अजय साहनी के बारे में कहा जाता है कि वह उन चंद आईपीएस अधिकारियों में से हैं जिन्हें सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की गुड लिस्ट में माना जाता है। आइए जानते हैं उनके बारे में।

कानून् व्यवस्था के मामले में मुस्तैद रहते हैं अजय साहनी

मूलरूप से महाराजगंज जिले के रहने वाले अजय साहनी 2009 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। अपनी तेज तर्रार कार्यशैली को लेकर साहनी हमेशा चर्चाओं में रहते हैं। खासकर उनके द्वारा किए गए एनकाउंटर ने उन्हें सूबे में विशेष पहचान दिलाई। प्रदेश की सपा सरकार बदलने के बाद आजमगढ़ में बिगड़ती कानून व्यवस्था के बीच नई योगी सरकार ने साहनी को आजमगढ़ का पुलिस कप्तान बनाकर भेजा था। उन्होंने ताबड़तोड़ एनकाउंटर कर अपराधियों पर ऐसी लगाम कसी कि अरसे ​से बिगड़ी कानून व्यवस्था एकदम ढर्रे पर आ गई। अपनी इस कार्यशैली से साहनी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की गुड लिस्ट में आ गए। हालांकि इस दौरान उनकी पटरी जिले के भाजपाइयों से नहीं खा सकी जिसके बाद लामबंद हुए भाजपाइयों ने उनके खिलाफ विरोध का बिगुल बजाए रखा।

आजमगढ़,अलीगढ़, मेरठ में लगातार किए एनकाउंटर, लगाई अपराध पर लगाम

आजमगढ़ में बढ़ते अपराध को देखते हुए साल 2017 में जिले की कमान आईपीएस अजय कुमार साहनी को सौंपी थी. अजय साहनी ने एसपी ग्रामीण रहे नरेंद्र प्रताप सिंह के साथ मिलकर न केवल बदमाशों की कमर तोड़ी, बल्कि कइयों को मौत की नींद सुलाकर पुलिस का हौसला बुलंद किया. तभी से पुलिस ने बदमाशों पर जो बढ़त बनाई, उसे एसपी प्रो. त्रिवेणी सिंह ने और आगे बढ़ा दिया था

आजमगढ़ में तैनातगी के दौरान एकतरफ आम जनता अजय साहनी के पक्ष में थी तो भाजपाई उनके खिलाफ। इसी बीच शासन ने उनका तबादला अलीगढ़ कर दिया। यहां आते ही साहनी का काम करने का अंदाज वही रहा और यहां भी उन्होंने एक के बाद एक कई एनकाउंटर को अंजाम देकर पुलिस का इकबाल जनता में कायम किया। यहां उन्होंने 7 कुख्यात को एनकाउंटर में ढेर किया जबकि 32 को घायल हालत में गिरफ्तार किया गया। हालांकि अलीगढ़ की पारी भी ज्यादा लंबी नहीं चल सकी और यहां से उनका ट्रांसफर लखनऊ पीएसी के लिए कर दिया गया। पीएसी में रहते ही उनका ट्रांसफर बाराबंकी के लिए किया गया अजय साहनी मेरठ,बाराबंकी बिजनौर,आजमगढ़ और सिद्धार्थनगर जिले के कप्तान और बुलंदशहर में एसपी सिटी की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं। ऐसे में जौनपुर जिले की बिगड़ी हुई कानून व्यवस्था के बीच में अजय साहनी को जौनपुर एसपी की जिम्मेदारी सौंपी गई।

वीरता पुरस्कार से सम्मानित हैं आईपीएस अजय साहनी

पिछले वर्ष 15 अगस्त 2020 के स्वतंत्रता दिवस के शुभ अवसर पर तत्कालीन मेरठ के तेजतर्रार एसपी अजय साहनी को वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.ये अवॉर्ड मेरठ जोन के एडीजी राजीव सभरवाल ने मेरठ पुलिसलाइन में दिया था.अजय साहनी को ये पुरस्कार आजमगढ़ में डी-9 गैंग के सरगना और 50 हजार के इनामी बदमाश सुजीत सिंह उर्फ बुढ़वा को ढेर करने पर मिला है.अजय साहनी ने आजमगढ़ और मेरठ में ताबड़तोड़ एनकाउंटर कर बिगड़ती कानून व्यवस्था को पटरी पर लाने का भी काम किया है.

आपको बता दें कि जिस बदमाश को आईपीएस अजय साहनी ने मुठभेड़ में ढेर किया था, वो उत्तर प्रदेश में आतंक का पर्याय बने डी-9 गैंग का सरगना और 50 हजार का इनामी बदमाश सुजीत सिंह उर्फ बुढ़वा था. बदमाश को पुलिस ने मुबारकपुर थाना क्षेत्र के गजहड़ा में 2017 में मार गिराया था. इस दौरान आजमगढ़ के एसएसपी अजय साहनी थे और इस मुठभेड़ में थाना प्रभारी मुबारकपुर और दो आरक्षी घायल भी हुए थे. घायलों को जिला अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था जो इलाज के बाद ठीक हो गए थे.

देश के 50 बेहतरीन पुलिस कप्तान की सूची में जौनपुर के नये कप्तान अजय साहनी को भी मिला था स्थान

फेम इंडिया मैगजीन ने देशभर में करीब सात सौ से अधिक जिला कप्तानों में से बेहतरीन 50 का चयन किया था। इस सूची में जौनपुर के नये एसपी अजय साहनी को सोलहवां नम्बर पर रखा गया था।
12 बिंदुओं को आधार बनाकर कई चरणों का सर्वे हुआ था, जिसके बाद यह लिस्ट जारी हुई। इसमें यूपी के कुल छह आइपीएस शामिल थे।

फेम इंडिया मैगजीन ने अप्रैल माह में देश के बेहतरीन आइपीएस की लिस्ट जारी की थी। इस सूची में यूपी के छह आईपीएस डा. प्रीतिन्दर सिंह ,जोगिंदर कुमार,बबलू कुमार,अजय साहनी, कलानिधि नैथानी और प्रभाकर चौधरी शामिल थे।

मैगजीन की ओर से 12 प्वाइंट जैसे क्राइम कंट्रोल, ला एंड आर्डर में सुधार, पीपुल्स फ्रेंडली, दूरदर्शिता, उत्कृष्ट सोच, जवाबदेह कार्यशैली, अहम फैसले लेने की त्वरित क्षमता, सजगता, व्यवहार कुशलता को ध्यान में रखा गया था। इसी आधार पर सभी का सर्वे भी हुआ था। इसके बाद लिस्ट बनाई गई।

सोशल मीडिया पर रहते हैं काफी सक्रिय

आईपीएस अजय साहनी सोशल मीडिया पर भी काफी सक्रिय रहते हैं। हर छोटे मुद्दे पर अपनी राय तो रखते ही हैं पुलिस की तमाम कार्यवाही को लेकर भी सोशल मीडिया पर अपडेट करते रहते हैं। सोशल मीडिया पर उनके फोलोअर्स की संख्या भी काफी ज्यादा है।

Related posts

Leave a Comment