यूपी की योगी सरकार में मंत्री गिरिश चंद्र यादव को सांप या चूहे के काटने से मचा हड़कम्म्प

सतीश कुमार मौर्य की रिपोर्ट

योगी सरकार के खेलकूद और युवा कल्याण राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) गिरीश चन्द्र यादव को सर्किट हाउस में सोते समय जहरीले कीड़े ने काट लिया. लेकिन सर्पदंश की आशंका के चलते उन्हें देर रात ही जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया.

यूपी की योगी सरकार में मंत्री गिरिश चंद्र यादव को चूहे ने काट लिया। वह बांदा के सर्किट हाउस में ठहरे थे। मंत्री को शक हुआ कि उनको सांप ने काट लिया है। इस शक में उनकी तबीयत बिगड़ने लगी। घबराहट बढ़ गई। आनन-फानन में सर्किट हाउस स्टॉफ को बताया गया। उन्होंने डीएम-एसएसपी को सूचना दी।मंत्री को सांप काटने की खबर मिलते ही प्रशासनिक अमले में हड़कंप मच गया। आधी रात को पूरा अमला सर्किट हाउस पहुंच गया। मंत्री को रात 3 बजे ही जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहां खुद सीएमएस पहुंचे। उन्होंने मंत्री का चेकअप किया।

दाहिने हाथ की अंगुली में हुआ काटने का अहसास
दरअसल, युवा कल्याण एवं खेलकूद राज्यमंत्री गिरिश चंद्र दो दिवसीय दौरे पर बांदा पहुंचे थे। शनिवार-रविवार की रात वह सर्किट हाउस में रुम न. 6 में ठहरे थे। रात को करीब दो-ढाई बजे के बीच सोते वक्त मंत्री को दाहिनी हाथ की अंगुली में किसी कीड़े के काटने का अहसास हुआ। उनकी नींद टूट गई।

काटने का दर्द इतना तेज था कि मंत्री को यह शंका हो गई कि उनको सांप ने काटा है। इससे उनकी तबीयत भी बिगड़ने लगी। मंत्री की तबीयत बिगड़ने की सूचना पर अफसरों के हाथ-पांव फूल गए।

रात 3 बजे एडमिट कराया गया
मंत्री को रात 3 बजे ही अस्पताल में भर्ती कराया गया। सीएमएस डॉ. एसएन मिश्रा और सीनियर डॉक्टर मौके पर पहुंच गए। डॉ. एसडी त्रिपाठी ने मंत्री का इलाज किया। करीब 3 घंटे के बाद उनकी तबीयत में कुछ सुधार हुआ। सुबह 6 बजे मंत्री को अस्पताल से छुट्टी दी गई। इस दौरान डीएम, एडीएम, एएसपी, सीओ, सीएमएस समेत अन्य अधिकारी अस्पताल मौजूद रहे।

CMS डॉ. एसएन मिश्र ने बताया कि मंत्री गिरीश चंद्र को चूहे ने काट लिया था। आसपास जंगल होने के चलते मंत्री को ऐसा लगा कि सांप ने काट लिया है। रात 3 बजे उनको अस्पताल में भर्ती कराया गया। जब पुष्टि हुई कि सांप ने नहीं चूहे ने काटा है, तब जाकर सुबह 6 बजे उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। सुबह भी चेकअप कराया गया। मंत्री की तबीयत बिल्कुल ठीक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.