मदरसे में मासूम बच्चों को जंजीरो से बांध कर बनाया गया बंधक

ब्यूरो रिपोर्टर सतीश कुमार मौर्य

लखनऊ- मदरसे में मासूम बच्चों को बंधक बनाया गया, कई महीनों से बच्चों को बनाया गया था बंधक, 2 मासूम बच्चों को जंजीर से बांधकर रखा गया, ग्रामीणों की शिकायत पर पुलिस ने कराया मुक्त, गोसाईगंज थाने के शिवलर के मदरसे का मामला।

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के गोसाईगंज इलाके के एक मदरसे से ऐसा मामला सामने आया है जिसे देखकर और सुनकर हर कोई हैरान हो जाएगा। इस क्षेत्र के एक मदरसे में बच्चों को पैरों में जंजीर बांधने के बाद ताला जड़कर पढ़ाया जा रहा था। मदरसे के अंदर बच्चों को प्रताड़ित किया जा रहा है जिसकी किसी को भनक तक नहीं है। सख्ती के नाम पर किशोरों के साथ ऐसा व्यवहार निंदनीय है। दो बच्चों के पैरों में जंजीर बांधने के बाद ताला जड़ा देखकर लोग हैरान हो गए।

वीडियो देखने के बाद पुलिस हरकत में
एक मदरसे में दो बच्चों के पैरों में जंजीर बांधने के बाद ताला जड़कर उन्हें पढ़ाया जा रहा था। शुक्रवार को मौका पाते ही बच्चे किसी तरह भाग निकले। इस तरह के हाल में उन्हें कुछ राहगीरों ने रोका और मोबाइल में वीडियो बनाकर इंटरनेट मीडिया पर वायरल कर दिया। इसके बाद पुलिस हरकत में आयी। पुलिस दोनों को थाने ले गए। वहां पता चला कि बच्चे अकसर भाग जाते थे। इसलिए उनके माता पिता के कहने पर बांधा गया था। मामले में कोई अभी तक तहरीर नहीं मिली है। इसलिए मुकदमा भी नहीं दर्ज किया गया।

लोगों ने बच्चों को देख बनाया वीडियो
जानकारी के मुताबिक ये दोनों बच्चे रनमऊ गांव के रहने वाले शेरा का बेटा शहवाज और बाराबंकी के जरमापुर में रहने वाला राजू शिवलर में स्थित मदसरे में पढ़ाई करते हैं। शुक्रवार की दोपहर राजू और शहवाज दोनों मदरसे की दीवार को फांदकर भाग निकले। शेरा का बेटा शहवाज के पैर में जंजीर के साथ ताला जड़ा था, जिसकी वजह से वह भागने के दौरान गिर पड़ा। यह देख कुछ लोग पहुंचे और उन्होंने जंजीर को बंधा देख मोबाइल से वीडियो बना लिया।

शरीर पर मिले चोटों के निशान
मदरसे में पढ़ने वाले शहवाज ने बताया कि मदरसे में मौलाना ने पैरों में जंजीर बांधी है। अंदर पैरों में जंजीर बांधकर और ताला जड़कर उन्हें रखा जाता है। इतना ही नहीं शहवाज के शरीर पर चोटों के निशान भी मिले है। स्थानीय लोगों ने मदरसे के अंदर बच्चों को प्रताड़ित किए जाने का आरोप लगाते हुए सोशल मीडिया में बनाए गए वीडियो को वायरल कर दिया। इसकी जानकारी होते ही  इंस्पेक्टर गोसाईगंज शैलेंद्र गिरी ने संज्ञान लिया। पुलिस ने दोनों बच्चों को लेकर थाने पहुंची।

परिजनों ने इस मामले में दी सफाई
थाने पहुंचने के बाद पुलिस ने परिजनों को सूचना दी। इंस्पेक्टर ने बताया कि शहवाज के पिता शेरा और राजू के परिजनों ने बताया कि उनका बच्चा पढ़ाई नहीं करता है। वह अकसर मदरसे से भाग आता था। जबकि मदरसे में रहने की भी व्यवस्था है। इसके बाद वह भाग जाता था। पढ़ाई नहीं करता है। जिसके बाद इंस्पेक्टर ने बताया कि घरवालों का कहना है कि उन्होंने ही मदरसे के शिक्षकों से कहा था कि दोनों बच्चों को बांधकर रखा जाए।

दोनों के घरवालों में लिखित में दी ये बात
आगे बताते है कि परिजनों ने यह भी बताया कि राजू दो दिन पहले भी भागा था। गुरुवार की शहवाज भी घर से मदरसे में पहुंचा था लेकिन शनिवार को वह भी भाग गया था। इसकी शिकायत मदरसे के शिक्षकों ने घरवालों को दी उसके बाद उन्होंने ही शहवाज को मदरसे में बांधने की अनुमति दी। उसके बाद जब फिर जब बांधा गया तो फिर वह भाग निकले। दोनों के घरवालों ने यही बात लिखित में भी दी है। तहरीर मिलने पर मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.